All Newsदेश दुनिया

भारत ने क्यों तैनात किया LCH हेलीकॉप्टर ? दुश्मनों के दांत खट्टे कर देगा यह हेलीकॉप्टर…

भारत इन दिनों सुरक्षा को लेकर काफी मुस्तैद है हथियारों के मामले में भारत इन दिनों नई नई ऊंचाइयों को छू रहा है । अपने सुरक्षा में जरा भी आनाकानी करने को नहीं है तैयार भारतीय रक्षा मंत्रालय।

क्यों उपयोग किए जाते हैं घातक अटैक हेलीकॉप्टर..?

दरअसल अटैक हेलीकॉप्टर का उपयोग कहां किया जाता है जहां जहां पर फाइटर जेट प्लेंस का सटीक हमला और सटीक निशाना नहीं लग पाता है । उन जगहों पर या अटैक हेलीकॉप्टर्स जाकर तबाही मचा देते हैं और इनके सटीक निशाने से दुश्मनों के परखच्चे उड़ जाते हैं। यह हेलीकॉप्टर्स दुर्गम से दुर्गम जगह में पहुंचकर दुश्मनों का सफाया कर देते हैं । फाइटर प्लेंस जो कि आसमान में काफी तेज गति से दौड़ती है जिसके कारण की कहीं-कहीं सटीक निशाने लगाने में नाकामयाब हो जाती है परंतु गति धीरे होने के कारण यह हेलीकॉप्टर्स उस काम को आसानी से कर जाते हैं। फाइटर प्लेंस और अटैक हेलीकॉप्टर्स का प्रयोग अलग-अलग परिस्थितियों में किया जाता है। जैसा कि एक बार भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक करने के लिए इन अटैक हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया था ।

भारतीय वायु सेना इन दिनों सुरक्षा के लिए काफी मुस्तैद हो गई है अलग-अलग जगहों पर सटीक चीजों का तैनाती किया जा रहा है। भारतीय वायु सेना सेना दिवस के पहले 3 अक्टूबर को राजस्थान के जोधपुर में लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर यानी कि LCH तैनात करने वाली है । यह हेलीकॉप्टर सीमा के आर पार नजर बनाए रखेगा और अगर किसी प्रकार का भी हमला होता है तो उसके मुंह तोड़ जवाब के लिए याद तुरंत सक्षम भी रहेगा । वायु सेना इसे हेलीकॉप्टर नहीं आसमान में उड़ती मौत मानते हैं ।

लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल ऊंचाई वाले जगह पर मुंहतोड़ हमले के लिए किया जाता है । जिस प्रकार भारत ने कारगिल युद्ध के दौरान ऊंचाई को चढ़ने में काफी कठिनाइयों कासामना किया था उस समय शायद अगर यह हेलीकॉप्टर होता तो दुश्मनों को करारा जवाब मिल जाता।
इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा मंत्रालय ने इन लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर को खरीदे जाने पर मुहर लगा दी है । बता दें कैबिनेट कमिटी ऑन सिक्योरिटी जल्द ही 15 LCH हेलीकॉप्टर के लिए 3887 करोड़ रुपया की अनुमति दी है। इनमें से इस वर्ष 377 करोड रुपए जारी किए जाएंगे। 15 हेलीकॉप्टर में से 10 लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर वायु सेना और 5 भारतीय सेना को दिए जाएंगे ।

इन लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टरों का काम युद्ध के समय सर्च और रेस्क्यू करना होगा इसके साथ साथ दुश्मनों के हमले का मुंहतोड़ जवाब देना भी इतना ही नहीं बल्कि घुसपैठ को रोकना भी होगा ।

Combat search and rescue
Destruction of Enemy Air Defence (DEAD)
Counter Insurgency – CI

मुख्य रूप से लाइट कॉन्बैट हेलीकॉप्टर इन 3 कार्यों को करने का काम करेगा। इसके अलावा ऊंचाइयों में जाकर दुश्मन के बंकर को ध्वस्त करने में भी यह कमाल साबित होगा ।

क्या क्षमताएं हैं इन लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर में…

यह हेलीकॉप्टर लगातार 3 घंटे 10 मिनट तक उड़ान भर सकता है और इस दौरान दुश्मनों को धूल चटा दे रहेगा क्योंकि बता दें यह हिमालय से भी ज्यादा ऊंचाइयों में जाकर वहां से हमला कर सकता है। 268 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से उड़ान भर सकता है यह लाइट कॉन्बैट हेलीकॉप्टर । यह हेलिकॉप्टर 51.10 फीट लंबा और इसकी ऊंचाई 15.5 फीट है ।

हेलीकॉप्टर के तैनात होने के बाद भारत की सीमा पर और भी सुरक्षा मजबूत हो जाएगी दुश्मन भारत की तरफ आंख उठाने से पहले 1000 बार सोचने के लिए मजबूर हो जाएंगे ।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button