देश दुनिया

चंद मिनटों में गंगा में समा गया दो मंजिला इमारत मुर्शिदाबाद में गंगा रौद्र रूप में…

प्रकृति यूं तो बड़ी खूबसूरत है पर जब प्रकृति में कुछ आपदा आती है तो फिर यह अपना रौद्र रूप खुल कर दिखाती है जी हां और जब बात हो गंगा की तो बात ही कुछ अलग है इन दिनों बारिश का मौसम है और इसको लेकर भूस्खलन , बाढ़ ने जो है काफी इलाके को प्रभावित कर दिया है चलिए आपके साथ साझा करते हैं एक खबर जिस को जानने के बाद आप समझ पाएंगे की गंगा किस प्रकार अभी अपने रौद्र रूप में । प्रकृति इन दिनों अपना रौद्र रूप दिखा रहा है और यूपी से लेकर उत्तराखंड तक लोग बारिश, भूस्खलन और बाढ़ से परेशान हैं. अब पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें चंद सेकेंड में दो मंजिला इमारत गंगा नदी में समा गई.

 

मुर्शिदाबाद में गंगा के किनारे बना दो मंजिला मकान जलस्तर में बढ़ोतरी की वजह से ताश के पत्तों की तरह ढहकर नदी में बह गया. यह पूरी घटना वहां मौजूद लोगों के मोबाइल कैमरे में कैद हो गई.

 

स्थानीय लोगों के अनुसार इस इमारत के साथ-साथ एक पेड़ और कृषि भूमि का बड़ा क्षेत्र भी गंगा नदी में डूब चुका है. गंगा में जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी और नदी के रौद्र रूप को देखते हुए नदी के किनारे रहने वाले लोग अपना घर छोड़ रहे हैं. जलस्तर में बढ़ोतरी की वजह से 7 से 8 घरों में दरारें आ गई है .

 

गंगा अपने रौद्र रूप में है…

 

बाढ़ और गंगा के जल स्तर से ना सिर्फ बंगाल बल्कि उत्तर प्रदेश भी बुरी तरह पस्त है. उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में गंगा उफान पर है और खतरे के निशान के ऊपर बह रही है. यही हालात प्रयागराज में भी है जिस वजह से वहां कई इलाकों में लोगों के घर भी डूब गए हैं और फसलें चौपट हो गई हैं. वाराणसी में भी गंगा का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है, जिससे नदियों के किनारे के कई क्षेत्र जलमग्न हैं. राम की नगरी अयोध्या में भी भारी बारिश जारी है. गुपतार घाट में आम दिनों में हजारों में पर्यटक आते हैं. यहां केवल बाढ़ का पानी है. पर्यटकों के लिए बनी कुर्सियां पानी में समा गई हैं. मंदिरों के करीब पानी पहुंच गया है. यहां मौजूद दुकानदार बताते हैं बाढ़ की वजह से व्यापार चौपट हो गया है, उन्हें दुकानें हटानी पड़ी हैं.

 

अयोध्या से सटे गोंडा जिले में भी बाढ़ का कहर बरपा है. गोंडा में लोगों के घरों के साथ-साथ स्कूल भी डूब गए हैं. कई गांव में करीब आठ से 10 फीट पानी भरा है. लोग शिविरों तक खाना लेने नही पहुंच सकते क्योंकि उनके घर या तो बाढ़ में डूब गए हैं या घरों के आस-पास पानी भर गया है. वहीं जल पुलिस लगातार रेस्क्यू में जुटी है.

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button