शिक्षा

सरकारी स्कूल की लचर व्यवस्था स्कूल टाइमिंग में कुर्सी पर सो रहे हैं शिक्षक…

सोशल मीडिया के जमाने में कहीं कुछ छुपा हुआ नहीं है अगर कहीं कुछ गलत काम होता है तो वह तुरंत सोशल मीडिया पर उसका पोस्ट या वीडियो आ जाता है और फिर वह काफी तेजी से वायरल होता है । अब सोचिए शिक्षक की नियुक्ति सरकार ने स्कूल में पढ़ाने के लिए की है अब वह अगर स्कूल जाकर सोए हैं तो फिर बच्चों का भविष्य खराब होगा या नहीं । दरअसल एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है जहां बिहार के कैमूर जिले के एक टीचर जो है वह कुर्सी पर सो रहे हैं वह भी स्कूल टाइमिंग में आइए जानते हैं क्या है पूरी बात ।

 

बिहार के कैमूर जिले के एक सरकारी स्कूल के टीचर का क्लासरूम में कुर्सी पर बैठे सोते हुए का वीडियो वायरल हुआ है. क्लास में बच्चे जमीन पर बैठकर आपास में बातें कर रहे हैं और गुरुजी आराम से सो रहे हैं. जांच के बाद पता चला कि यह वीडियो मोहनिया प्रखंड के कठेज पंचायत पंचायत के छोटका सगरा प्राथमिक स्कूल का है. टीचर का नाम शाहिद अंसारी बताया जा रहा है. अभिभावक टीचर के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रह हैं.

 

कठेज पंचायत के ग्रामीणों का कहना है कि यह वायरल वीडियो उनके पंचायत के सगरा गांव का है. इस मामले पर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी जगदीश प्रसाद ने बताया कि वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि शिक्षक क्लासरूम में बच्चों को पढ़ाने की जगह सो रहे हैं. इस पर उनका स्पष्टीकरण मांगा गया है. उनके साथ सख्त एक्शन लिया जाएगा.

 

 

वीडियो वायरल होने के बाद फूटा बच्चों के माता-पिता का शिक्षक पर गुस्सा…

 

वीडियो जैसे ही बाहर होना शुरू हुआ काफी लोग इसे देखने लगे और उसके बाद यह जमकर शेयर होने लगा जिसने जिसने भी इस वीडियो को देखा उसने कुछ सलाह भी दी और आगे इस वीडियो को फॉरवर्ड भी किया लेकिन जब उस स्कूल में पढ़ रहे बच्चों के माता-पिता ने इस वीडियो को देखा तो वह भी आग बबूला हो गए और शिक्षक को दोषी बताने लगे । वीडियो के वायरल होने के बाद बच्चों के माता-पिता में काफी गुस्सा है, उनका कहना है कि अगर टीचर बच्चों के सामने क्लासरूम में ऐसे ही सोएंगे तो बच्चों पर इसका क्या असर पढ़ेगा. एक तरफ बिहार सरकार बच्चों के उज्जवल भविष्य और विकास के लिए कोशिश कर रही है. वहीं दूसरी तरफ स्कूलों से आए दिए इस तरह के वीडियो वायरल होते रहते हैं. ऐसे शिक्षकों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाना चाहिए. अब देखना यह होगा कि इस शिक्षक पर क्या कार्रवाई होती है क्योंकि महाशय को जहां पढ़ाने का कार्य दिया गया था वहां वह कुर्सी पर बैठ नींद फरमा रहे हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button