All News

बोकारो, दुमका और जमशेदपुर में भी बनेगा एयरपोर्ट-ज्योतिरादित्य सिंधिया

पीएम मोदी ने मंगलवार को 401.03 करोड़ रुपये की लागत से बनी देवघर एयरपोर्ट जनता को समर्पित किया. इसके साथ ही झारखंड में एयरपोर्ट की संख्या दो हो गयी है. देवघर के अलावा रांची का भगवान बिरसा मुंडा एयरपोर्ट है. अब बोकारो, दुमका और जमशेदपुर से भी जल्द हवाई सेवा उपलब्ध होगी. इस संबंध में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आज देवघर में इसके संकेत भी दिए हैं

बोकारो, दुमका और जमशेदपुर से भी जल्द भरेगी उड़ान

समारोह में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंंत्री श्री सिंधिया ने कहा कि देवघर के लोगों ने जो सपना देखा था, आज वह सपना एयरपोर्ट और 16000 करोड़ की योजना के रूप में साकार हो रहा है. जल्द ही देवघर से रांची, देवघर से पटना और देवघर से दिल्ली को जोड़ा जायेगा. इससे देवघर आने वाले भक्तों को सुविधा मिलेगी. उन्होंने कहा कि आज के दिन संकल्प लेते हैं कि अभी झारखंड में दो एयरपोर्ट है एक रांची और अब देवघर. जल्द ही बोकारो, दुमका और जमशेदपुर में एयरपोर्ट बनायेंगे.

झारखंड का दूसरा प्रवेश द्वार बनेगा देवघर

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पीएम मोदी का मानना है कि हवाई चप्पल पहनने वाले के पास हवाई अड्डा आये, इस सोच के साथ सरकार काम कर रही है. इसी के लिए उड़ान योजना की शुरुआत की गयी है. कहा कि जहां से एयरपोर्ट संचालित होता है वहां के आर्थिक विकास का पहिया तेजी से आगे बढ़ता है. उन्होंने देवघर एयरपोर्ट के शुरू हो जाने से वे निश्चित रूप से कह सकते हैं कि झारखंड का दूसरा प्रवेश द्वार देवघर जरूर बनेगा. इस एयरपोर्ट से 2.50 करोड़ जनता के लिए नयी हवाई सेवा मिलेगी. अभी देवघर कोलकाता के बीच विमान सेवा शुरू हुई है. जल्द ही रांची, पटना और दिल्ली के लिए भी हवाई सेवा शुरू होगी. इस दौरान उन्होंने देश में हवाई सेवा कैसे विकसित हुआ, उपलब्धियां गिनायी.

14 नये रूट में हवाई सेवा की मिलेगी सुविधा

उन्होंने कहा कि पहले 1500 यात्री आते थे, अब 7500 यात्री आ रहे हैं. पहले 20 एयरक्राफ्ट और 56 एयरक्राफ्ट का मूवमेंट हो रहा है. आने वाले दिनों में 14 नये रूट में हवाई सेवा की सुविधा देेने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि 75 सालों में आठ हवाई अड्डे थे, लेकिन पिछले आठ वर्षों में 67 एयरपोर्ट बने हैं.

गुजरात का देवघर से है पुराना नाता

उदघाटन समारोह में स्वागत भाषण देते हुए गोड्डा सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने कहा कि एक लाख करोड़ से अधिक की योजनाएं गोड्डा संसदीय क्षेत्र में चल रही है. इसमें देवघर एयरपोर्ट और एम्स भी शामिल है. सांसद ने कहा कि 17 सितंबर को गोड्डा को रेल मिला. आपको धन्यवाद देने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं. कहा कि गुजरात से देवघर का पुराना कनेक्शन रहा है, क्योंकि महात्मा गांधी ने 1925 में देवघर आकर यहीं से आंदोलन की शुरुआत करने की सोची थी. बाद वे दूसरी जगह गये. फिर 1934 में महात्मा गांधी देवघर आये और उस वक्त बाबा मंदिर में अनुसूचित जातियों का प्रवेश वर्जित था. तब महात्मा गांधी ने बाबा मंदिर में अनुसूचित जातियों का प्रवेश कराया था. उस वक्त उन्होंने जो कड़ी छोड़ी थी, उसे आज पीएम नरेंद्र मोदी ने पूरा किया है.

मंच पर ये गणमान्य लोग थे मौजूद

राज्यपाल रमेश बैस, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, केंद्रीय मंत्री अन्नपूर्णा देवी, झारखंड के मंत्री बादल पत्रलेख, मंत्री हफीजुल हसन, विधायक नारायण दास आदि मौजूद थे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button