All Newsदेश दुनिया

अमरावती में भी कन्हैयालाल की तरह हुई थी दवा व्यपारी की गला रेत हत्या..उदयपुर से अमरावती की घटना का क्या है कनेक्शन ?

उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि महाराष्ट्र के अमरावती में इससे मिलती-जुलती घटना सामने आई है। शहर में रहने वाले एक केमिस्ट उमेश कोल्हे (Amravati Umesh Kolhe Murder) की बीती 21 जून को गला रेतकर हत्या कर दी गई। हत्या तब हुई जब रात के समय उमेश कोल्हे अपने मेडिकल स्टोर से घर लौट रहे थे। फिलहाल हत्या की वजह का अभी तक पता नहीं चल पाया है। यह हत्याकांड कन्हैयालाल की हत्या से एक सप्ताह पहले का बताया जा रहा है। हालांकि, मामले की छानबीन में अमरावती पुलिस जुटी हुई है। इस मामले को लेकर सोशल मीडिया में यह दावा किया जा रहा है कि नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट की वजह कोल्हे की निर्मम हत्या की गई है।

 

5 अरेस्ट, एनआईए-एटीएस की टीम अमरावती में

 

पुलिस को शक है कि यह मामला उदयपुर के कन्हैयालाल मर्डर की तर्ज पर हुआ है। फिलहाल इस मामले में पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है। जबकि मुख्य आरोपी अभी भी फरार है। एनआईए की टीम भी महाराष्ट्र के अमरावती में मामले की जांच कर रही है। बीजेपी सांसद अनिल बोंडे ने इस घटना की जांच की मांग करते हुए मास्टरमाइंड की गिरफ्तारी की मांग की है। इस बीच एटीएस की एक टीम भी मामले की छानबीन के लिए अमरावती पहुंची हुई है।

 

गर्दन पर पीछे से वार

उमेश कोल्हे महाराष्ट्र के अमरावती जिले में अमित मेडिकल नाम से एक मेडिकल स्टोर चलाते थे। अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक 54 वर्षीय कोल्हे 21 जून की रात को जब बेटे संकेत और बहू वैष्णवी के साथ अलग-अलग बाइक पर अपने घर जा रहे थे। तभी घात लगाकर बैठे हमलावरों ने उनकी गर्दन पर पीछे से चाकू से हमला कर दिया। अचानक हुए इस हमले में वो बुरी तरह से जख्मी हो गए थे। घटना के बाद उनके बेटे और बहू ने उन्हें लहूलुहान हालत में अस्पताल पहुंचाया। हालांकि उनकी जान नहीं बचाई जा सकी, डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इस घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गए थे।

 

नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट!

 

सूत्रों के मुताबिक उमेश कोल्हे ने व्हाट्सएप पर नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर किया था। जो गलती से एक मुस्लिम सदस्यों के ग्रुप में चला गया। जिनमें कुछ उनके ग्राहक भी थे। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से एक ने पुलिस को बताया कि उनके मुताबिक यह पैगंबर का अपमान था। इसलिए उन्हें इसलिए उनकी हत्या की गई। पुलिस ने इस बात की औपचारिक पुष्टि नहीं की है।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button