All News

कैसी कटी जेल में पंकज मिश्रा की पहली रात ! कभी नाम का बजता था डंका .. आज सलाखों के पीछे

TEAM_JILLATOP : कहते हैं हर चीज का अंत निश्चित है, हर कर्म का फल मिलना तय है, हर चीज एक समय के बाद अपने खात्मे पर आ हीं जाती है l ठीक वैसे हीं झारखण्ड में मुख्यमंत्री के जिस विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा की एक समय में तुती बोला करती l जिसके नाम मात्र से संथाल में हड़कंप मचा करता था , एक समय पर जिसके नाम का डंका खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से ज्यादा बजने लगा था, उन्हें आख़िरकार जेल की हवा खानी हीं पड़ी l

टेंडर मैनेज और मनी लॉउंड्रीग मामले में ED की टीम ने संथाल परगना में ताबड़तोड़ छापेमारी की थी जिसके बाद अनाप सनाप नकदी पैसे और बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ l लिहाजा ED की टीम में पंकज मिश्रा के सभी सहयोगी और अंत में पंकज मिश्रा को पूछताछ के लिए अपने कार्यालय बुलाया l

सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा मंगलवार सुबह जब ईडी दफ्तर पहुंचे तो चेहरे पर मुस्कान थी। अपने चिरपरिचित अंदाज में वे आत्मविश्वास से भरे दिखे। ईडी के दफ्तर में उनके जाने का अंदाज ऐसा था जैसे वे किसी भी तरह की परिस्थिति का सामना करने को तैयार होकर आये हैं l लेकिन पूछताछ शुरू होने के बाद उनके चेहरे की रंगत बदली बदली सी नजर आने लगी l शाम होते-होते चेहरे पर छाई मुस्कान गायब हो चुकी थी और उसकी जगह चिंता ने ले ली थी l

शाम होते हीं खबर आई की ED ने पंकज मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया है l इस खबर के सामने आते हीं मानो पुरे झारखण्ड में खबर आग की तरह फैल गयीं हो l पंकज मिश्रा यूँ तो कहने के लिए सिर्फ एक विधायक प्रतिनिधि थे लेकिन उनके रुतबे से पूरा झारखण्ड वाकिफ था l कभी किसी ने नहीं सोचा था की किसी सरकारी अधिकारी के हाथ पंकज मिश्रा की गिरेबान तक पहुंचेंगे l

मंगलवार देर शाम 8 बजे ED ने पंकज मिश्रा को गिरफ्तार कर सबसे पहले उनका मेडिकल कराया l फिर उन्हें रांची के कोतवाली थाना ले जाया गया l जहां CRPF के जवानों की कड़ी सुरक्षा के बीच पंकज मिश्रा को हाजत में रखा गया l सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पंकज मिश्रा की पूरी रात करवटें बदल कर गुजरी l मच्चरों के कारण पंकज मिश्रा रात भर सो नहीं पाए l कोतवाली थाना पुलिस ने पंकज मिश्रा को सोने के लिए एक चादर दिया था l

पुरे मामले में ED की जाँच अभी जारी है l ED की ओर से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया था कि छापेमारी के दौरान कुल 36.38 करोड़ रुपये जब्त हुए हैं l आठ जुलाई को पंकज मिश्रा व अन्य के 19 ठिकानों पर हुई छापेमारी के दौरान 5.34 करोड़ रुपये नकद जब्त हुए थे l वहीं बाद में पंकज मिश्रा, दाहू यादव व इसके सहयोगियों के 37 बैंक खाते पकड़े गये थे l इन खातों में 11.88 करोड़ रुपये जमा थे l जिन्हें जब्त किया गया था l

ईडी ने पूछताछ के क्रम में पंकज मिश्रा के सहयोगी दाहू यादव से फेरी सेवा से संबंधित सवाल पूछे थे l ईडी ने यह जानना चाहा कि फेरी सेवा उसे कैसे और कब मिली l इसके लिए निर्धारित घाट कौन-कौन से हैं l वह किस घाट से फेरी चलवाता है l ईडी ने उससे फेरी सेवा में हुई दुर्घटना के सिलसिले में भी पूछताछ की थी l साथ ही पंकज मिश्रा की व्यापारिक और राजनीतिक गतिविधियों से संबंधित सवाल पूछे थे l अधिकारियों ने बच्चू यादव और राजीव रंजन से उनके पारिवारिक सदस्यों के बारे में भी जानकारी मांगी थी l पारिवारिक और वर्तमान संपत्ति से संबंधित ब्योरा मांगा और इससे संबंधित सवाल पूछे गये थे l

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button